You've Helped Raise…

Daily Thought


कलयुग में सारे मार्ग लुप्त हो चुके हैं | केवल प्रेम में श्री सीताराम जी के नाम का कीर्तन ही एक आधार है | इसमे कोई रोक नहीं है, अगर आपको नाम कीर्तन करते हुए झूम के नृत्य करना है तो भी चलेगा |

Panchang


31-08-2015
३१/८/२०१५  भाद्रपद  कृष्ण  द्वितीया  १६:५०
सोम  पू.भा.

View

2069 to 2070